Rs. 499/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें  |"KHARIF3" कोड का उपयोग करें और Rs. 4999/- से अधिक के खरीद पर 3% की छूट पायें         कोड "KHARIF5" कोड का उपयोग करें और Rs. 14999/- से अधिक के खरीद पर 5% की छूट पायें         Rs. 1199/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें   

Menu
0

मोदी सरकार ने कृषि यंत्रीकरण के लिए वर्ष 2016-17 के लिए 118 करोड़ रुपये जारी किए: श्री राधामोहन सिंह

द्वारा प्रकाशित किया गया था BigHaat India पर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने कहा है कि तेजी से बदलती दुनिया और बढ़ती विश्व आर्थिक प्रतिस्पर्धा में अधिकतम और सर्वोत्तम प्रौद्योगिकी उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करना आवश्यक है ताकि खाद्यान्न की घरेलू आवश्यकता को पूरा किया जा सके और निर्यात को बढ़ावा दिया जा सके ।

कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि यंत्रीकरण फसल उत्पादन, प्रसंस्करण और परिवहन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है लेकिन यह पूरी दुनिया में दोहरी चुनौतियों का सामना कर रहा है । पहली चुनौती बढ़ती आबादी के लिए भोजन की आपूर्ति बढ़ाने की है और दूसरी है पर्यावरण की सुरक्षा । उन्होंने कहा कि कृषि यंत्रीकरण की चुनौती अभी भी भारत में मौजूद है। हमारी अधिकांश भूमि जोत एक छोटी है, इसलिए वाणिज्यिक उपयोग लाभप्रद साबित नहीं हो रहा है, लेकिन सरकार उन किसानों के लिए कस्टम हायरिंग सेंटर की स्थापना के माध्यम से कृषि मशीन-रोटा वेटर, ब्लो स्प्रेयर, कॉटन कल्टीवेटर, कटर और श्रेडर की उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है जो महंगी कृषि मशीनें नहीं खरीद सकते हैं । देश में चार क्षेत्रीय कृषि मशीनरी प्रशिक्षण और परीक्षण संस्थान स्थापित किए गए हैं जो मानक और गुणवत्तापूर्ण कृषि मशीनरी और उपकरणों की जरूरतों को पूरा करते हैं ।

श्री सिंह ने बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा देश में कृषि यंत्रीकरण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 2014-15 से कृषि यंत्रीकरण उप मिशन शुरू किया गया है। उप-मिशन का उद्देश्य लघु और सीमांत किसानों के लिए कृषि यंत्रीकरण को बढ़ावा देना और कृषि मशीनों की कम उपलब्धता के लिए कृषि यंत्रीकरण को बढ़ावा देना है ।

मंत्री ने आगे कहा कि मोदी सरकार ने पिछले दो साल यानी 2014-16 में इस सेक्टर के लिए 340 करोड़ रुपये जारी किए जबकि पिछली सरकार ने 2012-14 के बीच सिर्फ 62 करोड़ रुपये ही जारी किए। श्री सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार ने इसके लिए 118 करोड़ रुपये जारी किए हैं।

श्री सिंह ने कहा कि सतत प्रौद्योगिकी और संपूर्ण ग्रामीण विकास के लिए खाद्य सुरक्षा, ग्रामीण रोजगार और मृदा संरक्षण, सतत प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन और जैव विविधता उत्पादन जरूरी है। ग्रामीण आय में वृद्धि, किसानों की आय को दोगुना करने और खाद्य एवं पोषण की जरूरतों को पूरा करने और कृषि यंत्रीकरण के लिए कृषि के सतत विकास की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जापान और तुर्की के साथ ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका (पांच ब्रिक्स देश) आधुनिक फार्म मशीनों के बाजारों की श्रेणी में हैं।

इस मौके पर कृषि मंत्री ने कहा कि किताब अच्छी है और पाठक इसे पसंद करेंगे। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्रालय के अधिकारियों और फिक्की के अधिकारियों ने इसके लिए गुणात्मक सामग्री उपलब्ध कराई है। उन्होंने इस पुस्तक के प्रकाशन के लिए सामाजिक दायित्व परिषद की प्रशंसा की ।

मूल:

http://www.business-standard.com/article/news-cm/modi-government-released-rs-118-crore-for-the-year-2016-17-for-farm-mechanization-shri-radha-mohan-singh-116112800370_1.html


इस पोस्ट को साझा करें



← पुराना पोस्ट नई पोस्ट →


एक कमेंट छोड़ें