पेलेट बीज V/S सामान्य बीज

पेलेट बीज V/S सामान्य बीज

बीजों का पेलेटिंग बीज के आकार और वजन की एकरूपता को बनाए रखने के लिए कुछ निष्क्रिय सामग्री के साथ बीजों को कोटिंग करने की एक प्रक्रिया है। आमतौर पर मिट्टी या कुछ कार्बनिक सामग्री बीज कोटिंग के लिए निष्क्रिय सामग्री के रूप में उपयोग किया जाता है। बीजों की यह एकरूपता मैनुअल या यांत्रिक बीज का उपयोग करके बीज बोने में उपयोगी हो सकती है। यह भी उन्हें हाथ से या मैनुअल बीज द्वारा भी दूरी पर रखने के लिए व्यक्तिगत रूप से बीज ों को संभालने में मदद मिलेगी। बीजों को पेलेट करने से बुआई के बाद पतले ऑपरेटिंग से बचने में मदद मिलेगी। इससे बिना ज्यादा जोखिम के निराई और अन्य पोस्ट बुवाई कार्यों को आसानी से अंजाम देने में भी मदद मिलती है।

 

 

बीजों की पेलेटिंग/प्राइमिंग आमतौर पर बीज हैंडलिंग में आसानी के लिए निष्क्रिय सामग्रियों का उपयोग करके गाजर, प्याज, मिर्च आदि जैसे छोटे बीजों के लिए किया जाता है । बिना प्रिडेड बीजों की तुलना में पेलेट बीजों में बेहतर और तेजी से अंकुरण होगा। इनमें नॉन प्रिड सीड्स की तुलना में 50% तेज अंकुरण होगा। इन बीजों के जल्द अंकुरण से मृदा जनित रोग, मृदा क्रस्टिंग आदि से भी बचा जा सकेगा।

 

लेकिन प्राइमेड/पेलेड बीजों का शेल्फ लाइफ सामान्य बीजों की तुलना में कम होता है क्योंकि बुवाई से पहले अंकुरण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी । इसलिए सलाह दी जाती है कि वर्तमान मौसम में बुवाई के लिए प्रिड/पैलेट बीजों का उपयोग लंबी अवधि के लिए भंडारण से करें ।

 

रचयिता:

रूपा

वरिष्ठ विषय विशेषज्ञ


Leave a comment

यह साइट reCAPTCHA और Google गोपनीयता नीति और सेवा की शर्तें द्वारा सुरक्षित है.


Explore more

Share this