Rs. 499/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें  |"KHARIF3" कोड का उपयोग करें और Rs. 4999/- से अधिक के खरीद पर 3% की छूट पायें         कोड "KHARIF5" कोड का उपयोग करें और Rs. 14999/- से अधिक के खरीद पर 5% की छूट पायें         Rs. 1199/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें   

Menu
0

मिर्च की फसल में वायरल बीमारियों का प्रबंधन

द्वारा प्रकाशित किया गया था Sanjeeva Reddy पर

    

फलों के लिए दुनिया भर में फसल उगाई जाती है मिर्च की फसल का इस्तेमाल दो तरह से किया जाता है मिर्च के पौधे फसल की खेती में कुछ बीमारियों और कीड़ों से प्रभावित होते हैं वायरल बीमारियां वायरल बीमारियां हैं मिर्च का पौधा मुख्य रूप से लीफ कर्ल वायरस [मिथुन वायरस], तंबाकू मोजेक वायरस और टमाटर के धब्बों से प्रभावित होता है ।

   मिर्च

लीफ कर्ल मिथुन [वायरस लीफ कर्ल वायरस या मिथुन वायरसजाता है मिर्च के पौधे छोटे होते हैं, पत्तियां कम होती हैं, पत्तियां गहरे हरे रंग की होती हैं और वनस्पति का मध्य भाग हल्का हरा होता है।

इस वायरस को बॉबर, स्कैब, स्कैबी, पत्ती की शिकन, पत्ती की शिकन के नाम से जाना जाता है इसके लक्षण भी अलग होते हैं, मिर्च के पौधे छोटे होते हैं, कर्ल होते हैं, पत्तियां

  

तंबाकू मोज़ेक वायरस (तंबाकू पच्चीकारी तंबाकू मोज़ेकवायरस

मोज़ेक वायरस (तंबाकू मोज़ेक वायरस) - पत्तियां हल्के हरे और गहरे हरे रंग की होती हैं और बहुत पतली हो जाती हैं। पत्तियों की नसें गहरे हरे रंग की होती हैं

  रोगों का प्रबंधन

टोस्पो [टमाटर स्पॉट विल्ट वायरस]

फसलें सबसे कमजोर वायरस यानी कली परिगलन [पत्तियों की पत्तियां दिखाई देती हैं और पत्तियां गिरती हैं, यह बीमारी तने के तने को सूख रही है] और यह वायरस टमाटर की फसल पर भी हमला करता है और इसे टमाटर स्पॉटेड विल्ट वायरस [टैपो] के नाम से भी जाना जाता है।

 में

मिर्च फसल वायरल बीमारियों प्रबंधन

अंकुरण अवस्था

 मिर्च

कीड़े अंकुरण चरण के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं, इसलिए ये कीड़े रस पर हमला करते हैं और चूसते हैं और पौधे की अवस्था में वायरल बीमारियां फैलाते हैं।

 फसल टोस्पो वायरस रोग

इसलिए अगर अंकुरण अवस्था के दौरान इन कीड़ों से पौधों को बचाया जाए तो मिर्च की फसल को वायरस की बीमारियों से बचाया जा सकता है।

 चूसने वाले कीड़े

संक्रामक कीड़ों से बचाव कर वायरल बीमारियों से बचाव करते हैं पौधे लगाने के बाद भी खेत में वायरस की बीमारियों का ज्यादा नुकसान नहीं होता है।

ऊपर देखी गई वायरस बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए किसान वायरल फसलों की पत्तियों पर औषधीय दवाओं से बनी दवाओं का छिड़काव कर सकते हैं।

वायरल बीमारियों से बचाव के लिए प्राकृतिक दवाएं बड़ी में हैं, प्राकृतिक

[PERFEKT] वायरल बाहर, [वायरल बाहर]

    नर्सरी

वी

    वायरल होता है बाहर, [VIRAL OUT]

बिंद, [वी-बिंद] - कोईवायरस,

      रोपण सही [PERFEKT]
[नहीं वायरस] दानवंत्री [दानावथरी]प्राकृतिक दवाओं और मैंगनीज माइक्रोन्यूट्रिएंट्स के साथ प्राकृतिक दवाएं अधिक प्रभावी हैं ।

      वायरल, [VIRAL OUT]
उपलब्ध है

      दानवंतरी

रोगों की रोकथाम के साथ मिश्रित मैंगनीज माइक्रोन्यूट्रिएंट्स अधिक प्रभावी है।

मैंगनीज माइक्रोनेशिया माइक्रोन्यूट्रिएंट का इस्तेमाल करने उत्पाद.

एमएन, [मैग्नम Name

    वायरस
सीमैन,[सीमैन]

     दानवंत्री [दानवंत्री]
नैनो [नैनो एमएन] लक्षणों को कम करता

      मैग्नम एमएन

और इसके लक्षण कम हो जाते हैं।

वायरल बीमारियों के लक्षण कीटों को रोकते हैं, फलों के निशान, पत्तियां जलती हैं,

 

नोटः
मिर्च फसल वायरस की बीमारियों की रोकथाम के लिए अनुशंसित प्राकृतिक दवाओं का उपयोग वायरल बीमारियों से बचाव के लिए किया जा सकता है जो जामुन, करेला, लौकी, टमाटर, पपीता, शिमला मिर्च जैसी अन्य फसलों का कारण बन रहे हैं।

                             *********

पावती:

भाषा सहायता - श्रीलता।

छवियां सौजन्य- गूगल

 

के संजीवा रेड्डी,

वरिष्ठ कृषि विज्ञानी, बिगहाट।

__________________________________________________

अस्वीकरण: उत्पाद (एस) का प्रदर्शन निर्माता दिशानिर्देशों के अनुसार उपयोग के अधीन है। उपयोग से पहले उत्पाद (ओं) का संलग्न पत्रक ध्यान से पढ़ें। इस उत्पाद (ओं) का उपयोग उपयोगकर्ता के विवेक पर है।


इस पोस्ट को साझा करें



← पुराना पोस्ट नई पोस्ट →


  • Guru aagadu letha aakulachi photo

    Bonala Narayana yadav पर

एक कमेंट छोड़ें