Rs. 499/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें  |"KHARIF3" कोड का उपयोग करें और Rs. 4999/- से अधिक के खरीद पर 3% की छूट पायें         कोड "KHARIF5" कोड का उपयोग करें और Rs. 14999/- से अधिक के खरीद पर 5% की छूट पायें         Rs. 1199/- से अधिक के ऑर्डर पर मुफ्त डिलीवरी पायें   

Menu
0

कृषि ज्ञान ब्लॉग

Role Of Soil pH In Nutrient Uptake By Plants

द्वारा प्रकाशित किया गया था Intern BigHaat पर

Soil pH is the main property of the soil which influences the availability of nutrients. It is an important aspect that tells us about the alkaline or acidic nature of the soil. The pH scale usually ranges from 0-14. If the soil pH is less than 7 then it is known as acidic, if the pH is less than 5 then those kinds of soils are known as strongly acidic and if the pH is greater than 7, then the soil is known as alkaline soil with 7 being neutral. The most ideal pH for the soil lies between 6 to...

अधिक पढ़ें →

फलो की नर्सरी तैयार करना एवं पौधे तैयार करना यहां जानें

द्वारा प्रकाशित किया गया था Intern BigHaat पर

फलो की नर्सरी तैयार करना: स्वस्थ बीज या पौधे बोने  से स्वस्थ और बेहतर फसल प्राप्त होती है ,फलो की फसलों  के कुछ बीज  जैसे वाइल्ड नाशपाती ,सेब आडू ,सतालू बेर खुबानी अखरोट, अधिकतम जर्मिनेशन संख्या और स्वस्थ पौधों की स्थापना प्राप्त करने के लिए पहले संरक्षित परिस्थितियों में नर्सरी में उगाए जाते हैं और फिर मुख्य क्षेत्र में प्रत्यारोपित किए जाते हैं। किसान और नर्सरी प्रबंधक स्वस्थ पौध तैयार करने के लिए अंकुरण ट्रे का इस्तेमाल करते है। संरक्षित नर्सरी में फल पौधे के उत्पादन का महत्व महंगे बीजों का कम नुकसानउचित बीज अंकुरण , समान वृद्धि, कम से कम कीट और रोग का लगना  नर्सरी...

अधिक पढ़ें →

सफेद जंग (White rust) के लक्षण और प्रबंधन

द्वारा प्रकाशित किया गया था Vanitha K पर

सफेद जंग कवक रोग गुलदाउदी, सरसों, रेपसीड, गेंदा, पत्ता गोभी, फूलगोभी, ब्रोकली में होने वाला प्रमुख रोग है। वाइट रस्ट नम स्थितियों में आम तौर पर देखा जा सकता है, और इसके अनियंत्रण से फसल को ज्यादा नुकसान हो सकता है। वाइट रस्ट / सफ़ेद रतुआ के लक्षण   प्रारंभिक संक्रमण के समय सफेद बारीक/छोटे छाले (pustules) पत्तियों की सतह के नीचे दिखाई देंगे । नम परिस्थितियों में दोनों तरफ सफेद बारीक/छोटे छाले विकसित हो जाते है। पतियों और पंखुरियों पर छाले अधिक होते है। इन छालो के ठीक ऊपर पत्तियों की ऊपरी सतह पर हल्के भूरे रंग के धब्बे...

अधिक पढ़ें →

వరి పంటలో కాండం తొలుచు పురుగు(తెల్లకంకి )నివారణ

द्वारा प्रकाशित किया गया था Sreelatha B. पर

వరి పంటను నష్టపరిచే పురుగులలో కాండం తొలుచు పురుగు ప్రధానమైనది . కాండం తొలుచు పురుగును నారు మడి నుండి వరి ఈ నె దశ వరకు నష్టపరుస్తుంది . నారు మడి దశలో మొక్క మువ్వ లోనికి ఈ గొంగళి పురుగు రంద్రాలు చేసుకొని వెళ్లుతుంది . మువ్వ ను తినడం వలన మువ్వ గోధుమ రంగు లోనికి మారి మెళికలు తిరిగి ఎండి పోతాయి . ఈ మువ్వను చేతి తో పీకితే సులభంగా వస్తాయి . దీనిప్రభావము వలన మొక్కలుగుంపులు గుంపులుగా చనిపోతాయి . కాండం భాగాన్ని తీని వేసి నందున మొక్కకు సరిపడ పోషక పదార్థాలు అందక   తెల్ల కంకి గా మారి తాలు గింజలు కలిగి ఉంటాయి.పిలక దశ కంటే కంకి దశలో ఈ పురుగు నష్టం ఏర్పడుతుంది .  .          వరి పంటలో కాండం తొలిచే పురుగులను...

अधिक पढ़ें →

ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಬೆಳೆಯಲ್ಲಿ ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳ ನಿರ್ವಹಣೆ

द्वारा प्रकाशित किया गया था Kavya shree पर

ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳು [ಬ್ಯಾಕ್ಟ್ರೋಸೆರಾ ಕುಕುರ್ಬಿಟೇ -BACTROCERA CUCURBITAE], ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಬೆಳೆ ಹಣ್ಣುಗಳ ಮೇಲೆ ದಾಳಿ ಮಾಡುವ ಪ್ರಮುಖ ಕೀಟಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದಾಗಿದೆ. ಹಣ್ಣು ನೊಣ ದಾಳಿಯ ಲಕ್ಷಣ/ ಹಾನಿ ಗಳು ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳು ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಹಣ್ಣುಗಳನ್ನು ಹಾನಿಗೊಳಿಸುವುದಿಲ್ಲ ಬದಲಿಗೆ ನೊಣಗಳ ಹುಳುಗಳು ಹಾನಿಕಾರಕ ಹಂತವಾಗಿದೆ. ವಯಸ್ಕ ನೊಣಗಳು ಫಲವತ್ತಾದ ಮೊಟ್ಟೆಗಳನ್ನು ಎಳೆಯ ಕಾಯಿಗಳು  ಮೇಲೆ ಅಥವಾ ಹೂವುಗಳ ಮೇಲೆ ಇಡುತ್ತದೆ. ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳು ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಬೆಳೆ ಇಲ್ಲದಿದ್ದಾಗ ಇತರ ಆತಿಥೇಯ ಬೆಳೆಗಳ ಮೇಲೆ ದಾಡಿ ಮಾಡುತ್ತ ವರ್ಷವಿಡೀ ಸಕ್ರಿಯವಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಮೊಟ್ಟೆಯಿಂದ ಹೊರಬಂದ ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳ ಮರಿಹುಳು(ಮ್ಯಾಗಟ್) ಕಾಯಿಯ ಒಳಗೆ ಪ್ರವೇಶಿಸಿ ತಿರುಳನ್ನು ತಿನ್ನಲಾರಂಭಿಸುತ್ತವೆ. ಮರಿಹುಳು(ಮ್ಯಾಗಟ್) ಕಾಯಿಯ ಒಳಗೆ ಪ್ರವೇಶದ ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಕಾಯಿ/ ಹಣ್ಣುಗಳ ಮೇಲೆ ಸಣ್ಣ ರಂಧ್ರಗಳನ್ನು ಗಮನಿಸಬಹುದು. ರಂಧ್ರವಾಗಿರುವ ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಅಂಟು ದ್ರವವು ಹೊರಬರುವುದನ್ನು ಗಮನಿಸಬಹುದು. ಹಣ್ಣು ನೊಣಗಳ ಹಾನಿಯಾಗಿರುವ ಹಣ್ಣುಗಳು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ದೋಷಪೂರಿತವಾಗಿರುತ್ತವೆ, ಕೆಲವೊಮ್ಮೆ ವಿರೂಪಗೊಳ್ಳುತ್ತವೆ. ಹಾನಿಯಾಗಿರುವ ಕಾಯಿಗಳು ಹಣ್ಣಾಗುವ ಮೊದಲೇ ಹಣ್ಣುಗಳು ಬಳ್ಳಿಯಿಂದ ಕಳಚಿ ಕೊಳ್ಳಬಹುದು. ಹಣ್ಣು ನೊಣದ ನಿರ್ವಹಣೆ: ಕ್ಷೇತ್ರ /ಬೆಳೆ ಭೂಮಿ ನೈರ್ಮಲ್ಯ ಕಲ್ಲಂಗಡಿ ಬೆಳೆ ಹಣ್ಣು ನೊಣ ನಿರ್ವಹಣೆಯಲ್ಲಿ ಅತ್ಯಂತ ಪರಿಣಾಮಕಾರಿ ವಿಧಾನಗಳಲ್ಲಿ ಬೆಳೆ ಪ್ರದೇಶ /ಕ್ಷೇತ್ರ ನೈರ್ಮಲ್ಯವನ್ನು ಕಾಪಾಡುವುದು....

अधिक पढ़ें →